बर्ड फ्लू को जिला में फैलने से रोकने के लिए जिलावासी बरतेें सतर्कता-डॉ0परूथी

0
27

नाहन(लो.स.वि.):-उपायुक्त सिरमौर डॉ0आर0के0परूथी ने उपायुक्त कार्यालय के बैठक कक्ष में बर्डफ्लू की आशंका के चलते गठित टास्क फोर्स की बैठक की अध्यक्षता की। बैठक में बर्डफ्लू को जिला में फैलने से राकने के लिए तैयारियों पर विस्तार से चर्चा की। उपायुक्त ने बैठक में पुलिस विभाग को निर्दश देते हुए कि जिला में बाहर से लाई जाने वाली पॉलट्री को जिला में प्रवेश न करने दें। उन्होंने पशुपालन विभाग को जिला के मीट विक्रेताओं को कार्यशाला आयोजित कर बर्डफ्लू की गंभीरता के बारे में जागरूक करने के निर्देश जारी किए। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग को निर्देश देते हुए कहा कि व अपनी तैयारियां पूर्ण रखे ताकि बर्डफ्लू  के फैलने की स्थिति में लोगों को आवश्यक उपचार उपलब्ध हो सके।

 

उन्होंने मुर्गी व्यवसाइयों से अनुरोध किया है कि वह विभाग द्वारा चिहिन्त संस्थानों से ही मुर्गिया खरीदें क्योंकि इन चिहिन्त संस्थानों में समय-समय पर मुर्गियों में फैलने वाले रोगों की निगरानी की जाती है। उन्होंने जिलावासियों से अपील की है कि जिला में किसी भी स्थान पर मृत अवस्था में पाए जाने वाले पक्षियो को न छुए और इसकी सूचना संबंधित विभाग को दें ताकि बर्डफ्लू को फैलने से रोका जा सके और पंख नुमा पक्षियों को ना खाने की हिदायत भी दी।
उन्होंने बताया कि बर्ड फ्लू एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस (एच5एन1) की वजह से होता है।

 

ये एक वायरल इंफेक्शन है जो संक्रमित पक्षियों के संपर्क में आने वाले अन्य पक्षियों, जानवरों और इंसानों में फैलता है। उन्होंने बताया कि बर्ड फ्लू नाम की बीमारी संक्रमित पक्षी के मल, नाक के स्राव, मुंह के लार या आंखों से निकलने वाली पानी के संपर्क में आने से फैलती है। इसके अलावा संक्रमित जगहों को छूने, संक्रमित पक्षियों के संपर्क में आने, कच्चा या अधपका मुर्गा-अंडा खाने वाले या संक्रमित मरीजों की देखभाल करने वाले लोगों को बर्ड फ्लू का खतरा बढ़ जाता है। यह वायरस संक्रमित पक्षियों के संपर्क में आने वाले जानवर और मनुष्यों में आसानी से फैल जाता है। यह वायरस इतना खतरनाक है कि इससे मौत तक हो सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here