Homeदेश- विदेशकोरोना वायरस से बचाव के उपाय

कोरोना वायरस से बचाव के उपाय

मंडी ( प्रे.वि )-
कोरोना वायरस से निपटने को लेकर मंडी जिला प्रशासन पूरी तरह सजग और सर्तक है। जिला प्रशासन कोरोना वायरस से बचाव को लेकर लोगों को जागरूक करने पर ध्यान दे रहा है। सरकार की तरफ से बीमारी के लक्षण पहचानने और उसकी रोकथाम के उपायों की एडवाइडरी को लेकर लोगों को जागरूक किया जा रहा है। उपायुक्त ऋग्वेद ठाकुर ने कहा कि कोरोना के संक्रमण के बढ़ते खतरे को देखते हुए सावधानी बरतने की जरूरत है ताकि इसे फैलने से रोका जा सके। इसके लिए जरूरी है कि सरकार ने एडवाजरी जारी कर कोरोना वायरस से बचाव को लेकर जो उपाय सुझाए हैं उनका अनुसरण किया जाए। इनमें मेडिकल मास्क का प्रयोग करना व बार-बार सही तरीके से हाथ धोना महत्वपूर्ण उपाय हैं।
मेेडिकल मास्क किसे पहनना चाहिए
जारी एडवाजरी के मुताबिक अगर आप स्वस्थ हैं तो आपको मास्क पहनने की जरूरत नहीं है। यदि किसी व्यक्ति को खांसी, बुखार और सांस लेने में तकलीफ के लक्षण हां तो उसे थ्री लेयर मास्क का प्रयोग करना चाहिए जोकि इन्फैक्शन को फैलने से रोकने में सहायक है। उन्हें तुरंत डॉक्टरी सलाह लेनी चाहिए। इसके अलावा किसी कोरोना वायरस संदिग्ध व्यक्ति की देखभाल करने वाले लोगों को भी मास्क पहनना चाहिए।
मास्क पहनने का सही तरीका
मास्क पर सामने से हाथ नहीं लगाना चाहिए। मास्क को ऐसे पहनना चाहिए कि नाक, मुंह उससे ढका रहे। मास्क को गले पर न लटकाएं। मास्क उतारते वक्त भी मास्क का फीता पकड़ कर निकालना चाहिए, मास्क नहीं छूना चाहिए। हर रोज मास्क बदलना चाहिए व इसके बाद तुरन्त हाथ धोने चाहिए। मेडिकल मास्क जिसे सही ढंग से पहना हो, केवल 6 से 8 घंटे तक ही प्रभावी है। इसके बाद इसे सुरक्षित तरीके से ठिकाने लगाना चाहिए। वहीं यदि इन 6 से 8 घंटे की अवधि के दौरान मास्क गीला हो जाए तो उसे तुरन्त बदलना चाहिए।
प्रयोग किए मास्क को कैसे लगाएं ठिकाने
प्रयोग किए गए मास्क को सम्भावित रूप से संक्रमित माना जाता है। इसे ब्लीच या सोडियम हाइपोक्लोराइट घोल का उपयोग कर कीटाणुरहित करके जला कर अथवा जमीन में गहरा दबा कर नष्ट करना चाहिए।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments